जब योगी ने कहा ‘ओवैसी के गढ़ हैदराबाद से चुनाव लड़कर जीतूंगा,’ ओवैसी की जमानत हो जायेगी जब्त..

उत्तर प्रदेश में अगले साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं जिसकी तैयारी में अभी से सभी सियासी दल जुट गए हैं उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ का मुकाबला करने के लिए सपा ,बसपा ,कांग्रेस के साथ साथ ओवैसी की AIMIM भी जीत की दावेदारी पेश करने उतर रही है। ऐसे में इन दिनों सियासी बयान उबाल मार रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने तेजतर्रार और धाकड़ शैली के लिए जाने जाते हैं वह अक्सर अपने बेबाक बयानों से सुर्खियां बटोरते रहते हैं। वही योगी आदित्यनाथ और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी की सियासी जंग नई नहीं है लंबे समय से दोनों एक दूसरे के विरुद्ध जुबानी मुकाबला लंबे समय से करते रहे हैं। वहीं अब उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में ओवैसी की पार्टी भी सूबे में सियासी हलचल मचाने को तैयार है। या यूं कहें की असदुद्दीन ओवैसी योगी के गढ़ उत्तर प्रदेश में फतह हासिल करने के कयास लगा रहे हैं।

हैदराबाद से चुनाव लड़ कर जी सकता हूं

लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब योगी आदित्यनाथ ने ओवैसी के गढ़ हैदराबाद में चुनाव लड़ कर जीतने की हुंकार भरी थी। 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर तब एक टीवी इंटरव्यू के दौरान जब पत्रकार ने योगी आदित्यनाथ से पूछा था आप कोई और सीट बताइए जहां से आप चुनाव जीत सकते हैं गोरखपुर के अलावा, इसके जवाब में योगी आदित्यनाथ ने अपने ही तेज तर्रार अंदाज में कहा कि ‘ कहीं भी उत्तर प्रदेश में पूरे देश में कहीं भी आप कहें तो हैदराबाद से चुनाव लड़कर जीत सकता हूं’। योगी आदित्यनाथ का यह जवाब सुनकर सभी चौक गए थे जिस आत्मविश्वास के साथ योगी आदित्यनाथ ने हैदराबाद में चुनाव जीतने की दावेदारी की थी सियासी गलियारों में योगी आदित्यनाथ को लेकर हलचल मच गई थी। तब योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से सांसद हुआ करते थे। तभी एक टीवी इंटरव्यू के दौरान योगी आदित्यनाथ ने ओवैसी को लेकर यह बात कही थी।

मुझे प्रचार के लिए भेज दिया जाए, ओवैसी की जमानत हो जाएगी जब्त

योगी आदित्यनाथ यही नहीं रुके उन्होंने कहा कि यह देश संविधान से चलता है शरीयत से नहीं ओवैसी कभी योगी नहीं हो सकते। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जितना निष्पक्ष चुनाव गोरखपुर में होता है यदि हैदराबाद में होगा तो ओवैसी की जमानत जप्त हो जाएगी। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैं यह बात दावे के साथ कहता हूं कि ओवैसी के चुनाव में मुझे यदि प्रचार के लिए भेज दिया जाए तो वैसी की जमानत जप्त हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश में सियासी गर्माहट की यही तस्वीरें एक बार फिर देखने को मिल सकती हैं योगी आदित्यनाथ अपनी सत्ता एक बार फिर उत्तर प्रदेश में का विश करने के लिए कमर कस चुके हैं तो वही ओवैसी बिहार के बाद अब उत्तर प्रदेश में मुकाबले को लेकर तैयार हैं।

MUST READ