सौरव गांगुली को रणजी टीम में जगह मिलने पर निराश था पूरा परिवार, जानिए क्या थी वजह

Liberal Sports Desk :किसी भी खिलाड़ी के लिए रणजी स्तर में भी जगह बनाना उसके लिए खुशी का पल होता है लेकिन भारत के पूर्व कप्तान व वर्तमान में बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को जब रणजी की टीम में जगह मिली थी तब उनका पूरा परिवार निराश हो गया था चलिए इस आर्टिकल में आपको बताते हैं आखिर सौरव गांगुली के रणजी में सिलेक्ट होने पर उनका परिवार निराश क्यो था।

रणजी ट्रॉफी में जब सौरव गांगुली को जगह मिली तो उनका पूरा परिवार निराश था। जब सौरव गांगुली 12वीं कक्षा में थे और वह ट्यूशन से घर वापस आए तो उनका पूरा परिवार निराश बैठा था।गांगुली ने अपने परिवार वालों से जब इसकी वजह पूछी तो उन्होंने कहा कि तुम्हारे भाई रणजी टीम से बाहर हो गए हैं। इस पर सौरव गांगुली ने कहा कि कोई बात नहीं अगले साल खेल लेंगे। लेकिन उसके बाद उनकी मां ने कहा कि उनके स्थान पर तुम्हें टीम में जगह मिली है।

स्नेहाशीष गांगुली के स्थान पर बंगाल टीम में सौरव गांगुली को चुना गया

आपको बता दें कि बेहद ही कम लोगों को मालूम होगा कि सौरव गांगुली के भाई स्नेहाशीष गांगुली भी बंगाल की रणजी टीम में खेलते थे। स्नेहाशीष गांगुली ने बंगाल के लिए 59 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं जिसमे उन्होंने 2534 रन बनाए है उनके नाम 6 शतक व 11 अर्धशतक भी शामिल है।

MUST READ