यूपी की पॉलिटिक्स से राजभर का बॉयकॉट ? अखिलेश का साथ छूटने के बाद बुरे दिनों से गुजर रही सुभासपा !

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले ओपी राजभर योगी सरकार के खिलाफ दहाड़ते नजर आते थे। समाजवादी पार्टी गठबंधन में रहते हुए जब अखिलेश के साथ राजभर प्रेस कॉन्फ्रेंस में पहुँचते तो वे सपा अध्यक्ष के साथ ताल से ताल मिलकार सूबे की सियासत में ईंट का जवाब पत्थर से देनी की बात करते थे। लेकिन अब अखिलेश का साथ छूटने के बाद मानो सुभासपा अपने बुरे दिनों से गुजरने लगी है। यही नहीं अब यूपी की सियासत से राजभर के बॉयकॉट का भी अभियान छेड़ दिया गया है।

दरअसल मऊ में राजभर के खिलाफ कुछ पोस्टर लगाए गए हैं। इन पोस्टरों के जरिये राजभर का बॉयकॉट करते हुए उनकी एंट्री पर बैन लगा दिया गया है। बकायदा इलाके में पोस्टर लगवा दिए गए हैं । जिस पर साफ साफ लिखा है कि ओम प्रकाश राजभर का आना मना है । सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को राजभर बस्ती में आना मना है ।

पोस्टर मऊ जिले के कोपागंज थाना के अंतर्गत लाखीपुर गांव में लगे हैं । यहां एक गांव में ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ पोस्टर लगे हुए हैं । पोस्टरों में लिखा हुआ है कि राजभर का बस्ती में आना मना है । बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में यहां सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर के कार्यकर्ताओं की बैठक होने वाली है । ओमप्रकाश राजभर के बेटे अरुण राजभर के नेतृत्व में ये बैठक होनी है । इससे पहले ही गांवों में लगे ये पोस्टर सामने आए हैं ।

बता दें कि समाजवादी पार्टी से गठबंधन टूटने के बाद सुभासपा के 150 नेताओ ने इस्तीफा दे दिया है। ओपी राजभर खुद इस बगावत के पीछे अखिलेश को जिम्मेदार बता रहे हैं। लेकिन इन आरोपों के बावजूद यह सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। वहीं इससे पहले बसपा और भाजपा जैसे कई दल राजभर के साथ हाँथ मिलाने से भी इंकार कर चुके हैं। और अब राजभर के खिलाफ नो एंट्री के पोस्टर सुभासपा के बुरे दिनों को भी उजागर कर रहे हैं।

MUST READ