तेज गेंदबाज बनने को लेकर ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा ने बताई अपनी शर्त

Liberal Sports Desk : टोक्यो ओलंपिक 2021 में जैवलिन थ्रो में भारत को एकमात्र गोल्ड मेडल दिलाने वाले खिलाड़ी नीरज चोपड़ा गोल्ड मेडल जीतने के बाद ही लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। नीरज चोपड़ा का अंदाज ही कुछ ऐसा है वह सभी का हंसकर ही जवाब देते हैं एक खिलाड़ी के तौर पर इस तरह का स्वभाव कहीं ना कहीं यह दर्शाता है कि वह कितने बड़े चैंपियन खिलाड़ी हैं। लेकिन अब नीरज चोपड़ा से जब यह सवाल किया गया कि क्या आप तेज गेंदबाजी करना चाहेंगे तो नीरज चोपड़ा ने एक अजीब शर्त रख दी कहा अगर मेरी यह शर्त मंजूर हुई तो मैं क्रिकेट में वापस आ सकता हूं।

हरियाणा से कई खिलाड़ियों ने भारतीय टीम के लिए क्रिकेट खेला है जब नीरज चोपड़ा से इसी को लेकर हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन के प्रमुख अनिरुद्ध चौधरी ने नीरज चोपड़ा से पूछा कि क्या आप भविष्य में खुद को एक तेज गेंदबाज के तौर पर देखते हैं। नीरज चोपड़ा से यह सवाल अनिरुद्ध चौधरी ने इसलिए पूछा क्योंकि जैवलिन थ्रो करने और गेंदबाजी करने में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता है।

ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा ने इस बात का शानदार और मजाकिया लहजे में जवाब देते हुए कहा कि ” तेज गेंदबाजी में मैंने पहले भी कोशिश की है लेकिन जिस तरीके से गेंद को फेंकना होता है वह मुझे नहीं आता। हरियाणा में ऐसा कहा जाता है कि वह भट्टा गेंदबाजी करते हैं। अगर क्रिकेट के मैदान पर ऐसा करने की अनुमति मिली तो मैं क्रिकेट में वापस आ सकता हूं।

दरअसल टोक्यो ओलंपिक 2021 के दौरान 16वे दिन भारतीय खेमे में पहला गोल्ड मेडल आया था जिसे जैवलिन थ्रो में नीरज चोपड़ा ने शानदार तरीके से थ्रो करके जीत लिया था। नीरज चोपड़ा का वह पहला थ्रो ही इतना शानदार रहा था कि उसके बाद किसी ने भी उस थ्रो को पार नहीं कर पाया था।

MUST READ