मानसून सत्र – विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच करवाई स्थगित, पीएम ने कहा -दलित ,महिला किसानों के बेटे मंत्री बनने से लोग खुश नही

सोमवार को संसद के मानसून सत्र का आगाज हुआ। जिसकी शुरुआत विपक्ष ने जोरदार हंगामे के साथ की। लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद जैसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चली आ रही परंपरा के अनुसार सदन में नए मंत्रियों का परिचय कराने लगे तभी विपक्ष ने उन्हें घेर लिया और जोरदार हंगामा मचाना शुरू कर दिया। स्पीकर ओम बिरला ने सदन की परंपरा बनाए रखने की अपील भी की लेकिन विपक्षी सांसद नहीं माने जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नवनियुक्त मंत्रियों का परिचय नहीं करा सके।

विपक्ष के हंगामे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पलटवार किया उन्होंने कहा कि देश के दलित महिला ओबीसी किसानों के बेटे मंत्री बनने से कुछ लोग खुश नहीं है उन्होंने कहा कि मैं सोच रहा था कि आज सदन में बड़ा ही उत्साह का माहौल होगा क्योंकि ज्यादा संख्या में हमारी महिला सांसद दलित भाई आदिवासी किसान परिवार से सांसदों को मंत्री परिषद ने मौका मिला है उन्होंने कहा कि मैंने सोचा था कि उनका परिचय करने का आनंद होता लेकिन शायद देश देश की महिला आदिवासी दलित ओबीसी किसानों के बेटे मंत्री बने यह बात कुछ लोगों को पसंद नहीं आई।

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के दौरान विपक्ष के हंगामे को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी नाराजगी जताई उन्होंने कहा कि अपने 24 वर्षों के संसदीय जीवन में ऐसा पहली बार देखा कांग्रेस का यह आचरण दुर्भाग्यपूर्ण है राजनाथ सिंह ने कहा कि यह सदन की स्वस्थ परंपरा रही है लेकिन सदन की कार्यवाही शुरू होते ही प्रधानमंत्री अपने मंत्रिपरिषद के नए सदस्यों का परिचय कराते हो पूरा सदन प्रधानमंत्री की बात सुनता सदन मंत्री परिषद से परिचित होता मैंने अपने संसदीय जीवन में पहली बार ऐसा देखा है कि यह स्वस्थ परंपरा तोड़ी गई है। बता दें कि इसके बाद सदन की कार्यवाही को 2:00 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

MUST READ