मोहम्मद सिराज के पंजे में फंसी कंगारू टीम, अब इन बल्लेबाजों पर निर्भर करेगी भारत की जीत

ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज का अंतिम मैच ब्रिस्बेन में खेला जा रहा है, जहां ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी में 10 विकेट खोकर 294 रन बनाए है। चौथा टेस्ट मैच जीतने के लिए भारतीय टीम को 328 रनों का लक्ष्य मिला है, रोहित शर्मा और शुबमन गिल की जोड़ी मैदान पर उतर चुकी है पर बारिश ने एक बार फिर से खेल में खलल डाल दिया है जिसके कारण दिन का खेल खत्म होने तक भारत ने सिर्फ 4 रन बोर्ड पर लगाए है और अब टीम की नजर कल के खेल पर टिकी होगी वहीं ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी के दौरान टीम इंडिया के युवा तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने जबरदस्त गेंदबाजी की और ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को अपने पंजे में फंसा लिया। सिराज ने अपने टेस्ट करियर के दूसरे ही मैच में पारी में 5 विकेट अपने नाम कर लिए, इससे पहले सिराज ने सिडनी टेस्ट में डेब्यू करते हुए भी मैच में 5 विकेट निकाले थे।

आपको बता दें की बारिश लगातार इस टेस्ट मैच में बाधा बन रही है और कई बार खेल को रोकना भी पड़ा है, ऐसे में अगर कल भी मैच में बारिश होती है तो यह मैच ड्रा की तरफ जा सकता है लेकिन भारतीय टीम के पास इस मैच को जीतकर सीरीज पर कब्जा करने का बड़ा मौका भी है पर बात ये निकलकर आती है की टीम के सीनियर खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेकर खेलना होगा और युवा खिलाड़ियों को भी अपना दम दिखाना पड़ेगा। शुरुआत कर रहे सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और शुबमन को टीम के लिए अच्छी शुरुआत करनी पड़ेगी क्योंकि अगर ऑस्ट्रेलिया ने शुरू में भारत को झटका दे दिया तो सारा दवाब टीम के मध्यक्रम पर आ जाएगा। मिडिल आर्डर बल्लेबाज पुजारा और कप्तान रहाणे को भी बड़ी पारी खेलनी होगी क्योंकि ब्रिस्बेन टेस्ट अब निर्णायक मोड़ पर पहुंच चूका है।

पहले 2 मैचों में बतौर ओपनर फ्लॉप साबित होने वाले मयंक अग्रवाल को इस मैच में खेलने का मौका मिला है लेकिन बड़ी पारी खेलने में फिर से नाकाम रहे हैं जिसके बाद अब उनपर भी दूसरी पारी में बड़ी जिम्मेदारी होगी, विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत को एक बार फिर से टीम के लिए बेहतर खेल दिखाने की जरूरत पड़ सकती है जिसके लिए उन्हें भी तैयार रहना होगा क्योंकि तीसरे टेस्ट में उन्होंने शानदार खेल दिखाते हुए 97 रनों की पारी खेलकर टीम को हार से बचाया था वहीं पहली पारी में डेब्यू कर रहे वाशिंगटन सुंदर ने भी गेंद और बल्ले से खूब कमाल दिखाया था, सुंदर ने शार्दुल ठाकुर के साथ जबरदस्त साझेदारी की, सुंदर ने 62 और शार्दुल ने बल्ले से 67 रनों का योगदान दिया जिसके दम पर भारत ने 336 रन बनाए थे। ऐसे में दूसरी पारी में भी इन दोनों खिलाड़ियों पर भरोसा किया जा सकता है लेकिन टीम इनपर निर्भर नहीं रहना चाहेगी। इस मैच को जीतना है या ड्रा कराना है, ये रणनीति अब कप्तान और टीम मैनेजमेंट को बनानी होगी क्योंकि कल का दिन दोनों टीमों के लिए अहम होगा।

ब्रिस्बेन टेस्ट रोमांचक मोड़ पर पहुंच चूका है और दोनों कप्तानों की नजर होगी की इस मैच को जीतकर सीरीज पर कब्जा कर लिया जाए। विराट कोहली की कप्तानी में पिछली बार 2018-19 में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सीरीज में 2-1 हराया था और अब अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में भी टीम इंडिया इतिहास रचने के बेहद करीब पहुंच चुकी है वहीं ऑस्ट्रेलिया टीम भी पिछली हार का बदला लेने के लिए कल मैदान पर उतरेगी और मैच को जीतने के लिए पूरा जोर लगाएगी। फ़िलहाल मैच में टारगेट के हिसाब से ऑस्ट्रेलिया का पलड़ा थोड़ा सा भारी नजर आ रहा है, अब देखना होगा अगर बारिश कल खलल नहीं डालेगी तो इस मैच का नतीजा किसके पक्ष में जाता है।

MUST READ