तालिबान ने कैसे हासिल किए दुनिया भर के सारे हथियार ,लड़ाकू विमान और टैंकर! जानिए कहां से होती है अरबो की कमाई..

तालिबान ने देखते ही देखते दुनिया की नजरों के सामने समूचे अफगानिस्तान पर तालिबानी हुकूमत का झंडा फहरा दिया। अमेरिका जैसे देश के समर्थन के बावजूद अफगानिस्तान की सेना ने बिना हथियार उठाए ही तालिबान के सामने अपने सर झुका लिए। तालिबान के खौफ के सामने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति देश छोड़कर भागने को मजबूर हो गए। पूरी दुनिया आज तालिबान की इस ताकत को देखकर हैरान है जिसके सामने एक पूरे देश ने घुटने टेक दिए हो। वहीं अब पूरी दुनिया के जेहन में यह सवाल भी आ रहा है कि आखिर तालिबान की ताकत के पीछे किसका हाथ है एक देश को जीत लेने की ताकत तालिबान ने कहां से हासिल की। तालिबान के पास दुनिया भर के सभी हथियार मौजूद हैं लड़ाकू विमान है टैंकर हैं लेकिन यह सब तालिबान के पास आता कहां से है आखिर तालिबान का कारोबार क्या है तालिबान के कमाई के जरिए क्या है! इस रिपोर्ट में पढ़कर आपको हैरानी होगी तालिबान की कमाई साल भर में 1 अरब डॉलर से भी कहीं ज्यादा है। जानिए आखिर कहां से लाता है तालिबान इतना माल।

अवैध धंधे हैं कमाई का सबसे बड़ा साधन

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार तालिबान की सबसे ज्यादा कमाई अवैध धंधों से होती है जिसमे अवैध वसूली से लेकर अपहरण और मादक पदार्थों की तस्करी शामिल है। तालिबान तकरीबन 46 करोड़ डॉलर सिर्फ ड्रग्स की तस्करी से कम आता है इसके साथ ही तालिबान अवैध उत्खनन में भी सक्रीय है। एक रिपोर्ट के अनुसार तालिबान ने बीते साल अवैध उत्खनन से 46.4 करोड़ डॉलर की कमाई की थी। वही अफीम की खेती से भी तालिबान जमकर कमाई करता है।

तालिबान की 1 साल में होती है लगभग 1.6 अरब डॉलर की कमाई

तालिबान की कमाई के सारे जरिए अवैध हैं तो वहीं तालिबान को जमकर चंदा भी मिलता है एक रिपोर्ट के अनुसार तालिबान को हर साल 464 मिलियन डॉलर खनन से मिलते हैं। वह ड्रग्स की तस्करी करके तालिबान 416 मिलियन डॉलर हर साल अपनी जेब में भरता है। तालिबान को चंदा देने वालों की भी कमी नहीं है विदेश से आने वाले चंदे से 240 मिलियन डॉलर तालिबान के खाते में जाते हैं। वह केवल अवैध वसूली से 160 मिलियन डॉलर की कमाई तालिबान करता है तो 80 मिलियन डॉलर रियल स्टेट से भी काम आता है। कुल मिलाकर साल भर में तालिबान 1.6 अरब डॉलर तक की कमाई करता है।

90 हजार लड़ाकों की फौज,700 से ज्यादा गाड़ियां

यही नहीं तालिबान के पास लड़ाकों की भी कमी नहीं है। एक रिपोर्ट कि यदि माने तो तालिबान के पास लगभग 90 हजार लड़ाकों की फौज है। वही हथियारों की बात करें तो तालिबान के पास दुनिया भर के सभी आधुनिक हथियार मौजूद हैं। जिसमें लड़ाकू विमान से लेकर ड्रोन और टैंकर तक शामिल हैं। इनमें से ज्यादातर हथियार तालिबान ने अमेरिकी सेना के कब्ज आए हैं जिसमें 700 से ज्यादा वाहन भी शामिल हैं। जब अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाईडेन ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के स्वदेश वापसी वापसी का ऐलान किया तो अफगानिस्तान में सैन्य अड्डों को खाली करने की हड़बड़ी में कई हथियार तालिबान ने कब जा लिए ऐसे तालिबान और भी मजबूत हो गया।

इसी दौलत और ताकत की बदौलत तालिबान ने महज 22 दिनों में अफगानिस्तान में अपनी हुकूमत कायम कर ली और पूरी दुनिया को सोचने के लिए मजबूर कर दिया। बरहाल अफगानिस्तान की राजधानी काबुल तालिबानी हुकूमत के साए के नीचे दबी हुई है और आवाम खौफ के साए में जीने को मजबूर है।

MUST READ