BPR&D के स्थापना दिवस समारोह में बोले गृहमंत्री अमित शाह -लोकतंत्र हमारे देश का है स्वाभाव

शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पुलिस अनुसन्धान और विकास ब्यूरो के 51 वे स्थापना दिवस समारोह के कार्यक्रम में सम्मिलित होने पहुंचे। इस कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह ने टोक्यो ओलम्पिक की रजत पदक विजेता मीराबाई चानू को सम्मानित किया। साथ ही गृहमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद तमाम अधिकारियो को सम्बोधित भी किया जहाँ गृहमंत्री ने भारत के लोकतंत्र के विषय में भी कई महत्वपूर्ण बाते की।

पुलिस अनुसन्धान और विकास ब्यूरो के 51 वे स्थापना दिवस के अवसर पर अपने सम्बोधन के दौरान गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि कोई भी संस्था हो वह अपने क्षेत्र के भीतर 51 साल तक प्रासंगिकता को बना सकता है और बनाये रखता है तो उसका मतलब है उसके काम में प्रासंगिकता और दम दोनों हैं। अमित शाह ने कहा कि किसी भी संस्थान के लिए अपनी प्रासंगिकता बनाये रखना बहुत बड़ी चुनौती होती है।

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि लोकतंत्र हमारे देश का स्वाभाव है। अगर कोई कहे कि लोकतंत्र देश में 15 अगस्त 1947 के बाद आया या फिर 1950 में संविधान अपनाने के बाद ही आया ,तो यह गलत है। लोकतंत्र हमारा स्वाभाव है। शाह ने कहा कि पहले भी गाँवो में पांच परमेश्वर हुआ करते थे ,हजारो साल पहले द्वारका में यादवो का गड्तंत्र था। बिहार में गड्तंत्र थे इसलिए लोकतंत्र हमारे देश का स्वभाव है।

कार्य्रकम में अपने सम्बोधन के दौरान अमित शाह ने कहा कि अगर कानून व्यवस्था ठीक नहीं है तो लोकतंत्र कभी सफल नहीं हो सकता है। कानून व्यवस्था को ठीक रखने का काम पुलिस करती है। गृहमंत्री ने कहा पूरे सरकारी तंत्र में सबसे कठिन काम अगर किसी सरकारी कर्मचारी का है तो वह पुलिस के मित्रो का है।

MUST READ