कांग्रेस अध्यक्ष के इस फार्मूले को ठुकराया मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने!

कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर कयासों के दौर के बीच अब खबर आ रही है कि जिस नाम को कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप बढ़ाया जा रहा था उन्होंने उस पद को ठुकरा दिया है जी हम बात कर रहे हैं मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ की जिनके नाम की चर्चा मीडिया में सबसे ज्यादा थी कि अगले कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ हो सकते हैं मीडिया की सुर्खियों के बीच कमलनाथ और सोनिया गांधी की मुलाकात ने इस खबर को पुष्ट करने की भी कोशिश की लेकिन नतीजा कुछ भी नहीं निकला लेकिन सवाल यही उठता है कि कांग्रेस के विश्वसनीय सूत्र जब इस बात का हवाला दे रहे थे कि मध्य प्रदेश कांग्रेस के मुखिया ही राष्ट्रीय क्षितिज पर कांग्रेस की कमान संभाल सकते हैं तो आखिर ऐसा क्या हुआ कि कमलनाथ वापस मध्य प्रदेश आ गए और उन्होंने यह कह दिया कि मेरी प्राथमिकता मध्यप्रदेश है दरअसल इस पूरे घटनाक्रम की अगर समीक्षा की जाए तो पर्दे के पीछे कुछ और ही कहानी निकल कर सामने आ रही थी दरअसल कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी कांग्रेस को मजबूत करने के लिए सिंगल अध्यक्ष नहीं चार 4 कार्यकारी अध्यक्षों की वकालत कर रही थी और उन्होंने यह फार्मूला कमलनाथ के सामने भी रखा हमारे सूत्र बताते हैं कि कमलनाथ ने इस फार्मूले पर असहमति जता दी और कहा कि अगर एक अध्यक्ष का फार्मूला होगा तो वे इस पर विचार भी कर सकते हैं।

क्या था ये फार्मूला जो नही था फिट

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कमलनाथ को बताया कि कार्यकारी अध्यक्ष जो भी होंगे वे रिपोर्टिंग तो अध्यक्ष को ही करेंगे लेकिन उनकी जिम्मेदारी अलग अलग होगी इस फार्मूले पर कमलनाथ की असहमति रही और कमलनाथ ने इशारों ही इशारों में जो जवाब दिया उससे साफ हो गया कि वे राष्ट्रीय राजनीति से इतर मध्य प्रदेश की राजनीति में ही काम करना चाहते हैं शायद कमलनाथ की इस मंशा को कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी समझा और उन्होंने उनको फ्री हैंड दे दिया ,जाहिर सी बात है इस वक्त जब मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव होने हैं उपचुनाव भी सामने हैं ऐसे में कमलनाथ की इस वक्त में जो बात राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए आई है फिलहाल होल्ड कर दी गई है लेकिन यह भी तय है कि आने वाले वक्त में नेतृत्व परिवर्तन होगा और असंतुष्ट खेमे को भी संतुष्ट करने की कोशिश कांग्रेस की ओर से की जाएगी ऐसे में नेतृत्व परिवर्तन की खबरें लगातार आती ही रहेगी।

MUST READ