MP में राहुल गाँधी के पहुँचते ही कांग्रेस को लगा झटका ,टूट गया कमलनाथ का राजनीतिक राइट हैंड

राहुल गाँधी की अगुवाई वाली भारत जोड़ो यात्रा महाराष्ट्र के बाद अब मध्यप्रदेश पहुँच चुकी है। आज भारत जोड़ो यात्रा का एमपी में आज तीसरा दिन है।यात्रा में कांग्रेस के तमाम दिग्गज शामिल हो रहे हैं। लेकिन इस बीच कांग्रेस के लिए बड़ा झटका सामने आया है।

भाजपा और नेता मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के सियासी राइट हैंड को तोड़ दिया है। मध्यप्रदेश में कमलनाथ के राइट हैंड माने जाने वाले और मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा शुक्रवार सुबह राज्य की राजधानी भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।यही नहीं उन्होंने भाजपा में शामिल होने के बाद कमलनाथ पर सिख दंगो को लेकर बड़े आरोप भी लगा दिए।

भाजपा को मिलेगी मजबूती

नरेंद्र सलूजा का भाजपा परिवार में स्वागत करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि उनके आने से पार्टी मजबूत होगी। चौहान ने कहा वह तथ्यों और तर्क के आधार पर अपनी बात रखने वाले नेता हैं। अब वह भारतीय जनता पार्टी के साथ रहेंगे। मैं उन्हें बधाई देता हूं। उन्हें पार्टी के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए और राष्ट्र निर्माण में योगदान देना चाहिए।”

जागा सिक्ख दंगो का मुद्दा

नरेंद्र सलूजा ने भाजपा में शामिल होने के बाद कमलनाथ पर कई गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि मैं आभारी हूं कि पार्टी ने मुझे सेवा करने के लिए जगह दी है। मैं पिछले पांच सालों से कमलनाथ के साथ काम कर रहा हूं। कई लोगों ने कहा है कि कमलनाथ 1984 के सिख दंगों में आरोपी थे लेकिन मुझे लगा कि लोग राजनीतिक मतभेदों के कारण बोल रहे हैं।लेकिन 8 नवंबर को जब मैं गुरुनानक जयंती के अवसर पर उनके साथ खालसा कॉलेज, इंदौर गया, तो जो सच सामने आया और उसने मुझे बहुत परेशान किया। इसने मेरी आंखें खोल दी हैं। मैं अपने धर्म के लोगों की हत्या के आरोपी व्यक्ति के साथ काम नहीं कर सकता। मैं ऐसे संगठन के साथ काम नहीं कर सकता।

सलूजा ने आगे कहा, ‘आठ नवंबर के बाद से मैंने न तो कांग्रेस से जुड़ा कोई पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किया है और न ही किसी कार्यक्रम में शामिल हुआ हूं. यहां तक ​​कि मैं कमलनाथ से भी नहीं मिला और न ही उन्हें जन्मदिन की बधाई दी. उस घटना के बाद मैंने फैसला किया कि मैं काम नहीं कर सकती. पार्टी के साथ और भाजपा में शामिल हो गए। पार्टी को जो भी जिम्मेदारी दी जाएगी, मैं उसके लिए तहे दिल से काम करूंगा।

कांग्रेस ने किया निष्कासित

मध्य प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के अध्यक्ष केके मिश्रा ने हालांकि कहा कि सलूजा को 13 नवंबर को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। उन्हें पूर्व में भी पार्टी से निलंबित किया गया था। मिश्रा ने आरोप लगाया कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि सलूजा कांग्रेस पार्टी में रहते हुए भाजपा के लिए काम कर रहे थे।

MUST READ