पूर्व कप्तान का बड़ा बयान, कहा- इंग्लिश बल्लेबाजों को आउट करने के लिए केवल एक अच्छी गेंद चाहिए

Liberal Sports Desk : इंग्लैंड के पूर्व कप्तान जेफरी बॉयकॉट ने भारत के खिलाफ नॉटिंघम में खेले गए पहले टेस्ट मैच में इंग्लिश बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन को लेकर बेहद फटकार लगाई है। उन्होंने इंग्लिश बल्लेबाजों की तकनीक पर भी सवाल उठाए हैं। बॉयकॉट ने कहा कि कुछ इंग्लिश बल्लेबाज शॉट खेलने की लालच में खराब शॉट खेल गए और आउट हो गए उनमें धैर्य की कमी है।

जेफरी बॉयकाट ने द टेलीग्राफ में लिखे अपने कॉलम में लिखा कि ” मैं हाल ही में ग्राहम गूच से मिला और इंग्लैंड की बल्लेबाजी पर चर्चा की। उन्होंने सारी चीजों का सार बताते हुए कहा कि ” अगर गेंदबाज 4 गेंदों पर रन बनाने का मौका नहीं देगा तो हमारे बल्लेबाज पांचवी और छठी गेंद पर शॉट मारने की कोशिश करेंगे और पूरी संभावना है कि वह अपना विकेट गवा देंगे।

उन्होंने लिखा कि “क्रिकेट की संस्कृति बदल गई है हमारे बल्लेबाज शॉट खेलना पसंद करते हैं आधुनिक क्रिकेट में ज्यादा वनडे क्रिकेट खेलने के कारण ऐसा हो रहा है और टेस्ट क्रिकेट में उनकी तकनीक उन्हें निराश करती है।

जेफरी बॉयकॉट ने कहा कि “फ्रेंचाइजी क्रिकेट के कारण यह कहना अजीब होगा कि टिके रहो और रक्षात्मक खेल दिखाओ। लेकिन जैसा कि ग्राहम गूच ने कहा कि इन्हें सिर्फ कुछ अच्छी गेंदें फेंकने की जरूरत है गेंदबाजों को पता है कि बल्लेबाज लालच में जरूर आएगा।

जेफरी बॉयकॉट ने कहा कि “जेक क्रोली को देखिए वह कितना परेशान लग रहा है बल्लेबाजी करते समय। क्योंकि सालों से इन्हें बड़ा शॉट खेलना ही सिखाया जा रहा है। क्योंकि वनडे क्रिकेट व फ्रेंचाइजी लीग बेहद ज्यादा हो रही है।

आपको बता दें भारत और इंग्लैंड के बीच नॉटिंघम में खेले गए पहले टेस्ट मुकाबले में इंग्लैंड की बल्लेबाजी पहली पारी में केवल 183 रनों पर सिमट गई थी। जो रुट के अलावा कोई भी बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों के सामने टिक नहीं सका था। ऐसे में इंग्लैंड टीम की बल्लेबाजी आगे के मैचों में चिंता का सबब है।

MUST READ