भारत की जीत के बाद वीरेंद्र सहवाग ने अर्जुन राणातुंगा को दिया करारा जवाब, भारत की टीम को बताया था बी टीम

Liberal Sports Desk : भारत और श्रीलंका के बीच रविवार को कोलंबो में खेले गए पहले एकदिवसीय मुकाबले में भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से करारी मात देते हुए पहला वनडे अपने नाम कर लिया। इस मुकाबले में भारतीय युवा खिलाड़ियों ने बेहद शानदार प्रदर्शन का नजारा पेश किया।ईशान किशन, पृथ्वी शॉ, सूर्यकुमार यादव, इन खिलाड़ियों ने श्रीलंका के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की।

भारत की टीम जब श्रीलंका दौरे पर जा रही थी तब श्रीलंका के 1996 विश्व कप विजेता टीम के कप्तान अर्जुना रणतुंगा ने इस भारतीय टीम को बी टीम कहकर श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड का अपमान बताया था जिसमें उन्होंने कहा था कि बीसीसीआई ने भारत की बी टीम भेजकर हमारा अपमान किया है।

अब जहां भारत और श्रीलंका के बीच खेले गए पहले मुकाबले में भारतीय टीम ने श्रीलंका को बेहद ही करारी मात देते हुए यह बता दिया है कि यह भारतीय टीम किसी भी टीम को हरा सकती है। और भारत की इसी जीत से गदगद होकर भारतीय टीम के आक्रामक ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने अर्जुन रणतुंगा के उस बयान पर करारा जवाब दिया है।

वीरेंद्र वीरेंद्र सहवाग ने तो इस जीत से खुश होकर यह तक कह डाला कि यह भारतीय टीम विराट कोहली की प्रमुख टीम को भी हरा सकती है इस भारतीय टीम में शानदार युवा खिलाड़ी हैं जो बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं।

वीरेंद्र सहवाग ने सोनी टेन के साथ बातचीत में कहा कि” अर्जुन राणातुंगा का ऐसा बयान थोड़ा असभ्य था। अर्जुन राणातुंगा को शायद ऐसा लगा होगा कि यह भारत की बी टीम है लेकिन सच तो यह है कि आप भारत की कोई भी टीम भेजो वो बी नहीं कहलायेगी। यह शायद आईपीएल का फायदा है कि हमारे खिलाड़ियों में बेहद ही प्रतिभा भरी हुई है। हम सभी खिलाड़ियों को एक टीम में नहीं खिला सकते। ये टीम बराबर से भी प्रतिभाशाली है।

वीरेंद्र सहवाग ने आगे बात करते हुए कहा कि ” जिसे अर्जुन राणातुंगा बी टीम कह रहे थे जिसे हमने स्वीकार नहीं किया।अगर वह इंग्लैंड में मौजूदा खिलाड़ियों से खेले तो उन्हें भी कुछ मैच हरा सकती है। इतनी इन खिलाड़ियों में काबिलियत है। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि यह भारत की बी टीम है। श्रीलंकन बोर्ड को तो बीसीसीआई को धन्यवाद करना चाहिए। बीसीसीआई तो बड़ी आसानी से यह कह सकता था कि हम उपलब्ध नहीं हैं। उन्हें बीसीसीआई का धन्यवाद करना चाहिए बोर्ड उनकी आर्थिक मदद कर रहा है। अगर भारतीय टीम श्रीलंका जाने से मना कर देती दो श्रीलंकन बोर्ड को काफी फंड का नुकसान होता।

गौरतलब है कि जिस तरह से भारत के इन युवा खिलाड़ियों ने प्रदर्शन किया है उससे तो भारत की प्रमुख टीम के कई खिलाड़ियों के लिए खतरे की घंटी बजते हुए नजर आ रही है। क्योंकि इन युवा खिलाड़ियों में शानदार प्रतिभाएं भरी हुई है ऐसे में भारतीय टीम की बेंच स्ट्रैंथ बेहद ही मजबूत नजर आ रही है।

MUST READ