Mission 2024 को बनाने सफल एकजुट हुए विपक्ष के 19 दल ,सोनिया गांधी की अगुवाई में हुई बैठक सम्पन्न

शुक्रवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में विपक्ष के 19 दलों ने बैठक की इस बैठक में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत कांग्रेस के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और दिग्गज नेता सम्मिलित हुए। बैठक का मकसद 2024 के लोकसभा चुनावों में विपक्षी एकजुटता साबित कर भाजपा का मुकाबला करना रहा।

सोनिया गांधी की अगुवाई में 19 जिलों की यह बैठक वर्चुअल रूप से की गई बैठक में देश में वर्तमान सियासी हालात और सरकार के विरुद्ध विपक्ष की रणनीति को लेकर चर्चा की गई। यह बैठक तकरीबन 3 घंटे चली। 3 घंटे की इस मैराथन बैठक में मुख्य रूप से सोनिया गांधी ने कहा कि हमारा अंतिम लक्ष्य 2024 के लोकसभा चुनाव हैं। सोनिया गांधी ने कहा कि वर्तमान समय में विपक्षी दलों की एकजुटता राष्ट्रहित की मांग है। कांग्रेस अपनी ओर से कोई भी कमी नहीं रखेगी। बैठक में तय किया गया कि 20 से 30 सितंबर तक देशभर में विपक्ष विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन करेगा।

सोनिया गांधी ने इस बैठक में हाल ही में संपन्न हुए संसद के मानसून सत्र का भी जिक्र किया सोनिया गांधी ने कहा कि मुझे भरोसा है कि यह विपक्षी एकजुटता संसद के आने वाले शहरों में भी बनी रहेगी लेकिन व्यापक के राजनीतिक लड़ाई संसद से बाहर लड़ी जानी है सोनिया गांधी ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं है कि हमारा लक्ष्य 2024 का लोकसभा चुनाव है हमें देश को एक ऐसी सरकार देने के उद्देश्य से व्यवस्थित रूप से योजना बनाने की शुरुआत करनी है जो स्वतंत्रता आंदोलनों के मूल्य और संविधान के सिद्धांतों एवं प्रावधानों में विश्वास रखती हो। सोनिया गांधी ने कहा कि देश की आजादी की 75वी वर्षगांठ अपने व्यक्तिगत और सामूहिक संकल्प पर फिर जोर देने का सबसे उचित अवसर है मेरे कहूंगी कि कांग्रेस की तरफ से कहीं कोई कसर बाकी नहीं रहेगी।

वही आपको बता दें कि 19 दलों की हुई इस बैठक में बहुजन समाजवादी पार्टी सम्मिलित नहीं हुई जबकि समाजवादी पार्टी की गैरमौजूदगी पर कहा गया कि अखिलेश यादव ने पत्र लिखकर कुछ कारणों के चलते सम्मिलित होने में असमर्थता जताई है। वह आम आदमी पार्टी को इस बैठक में आमंत्रित ही नहीं किया गया।

MUST READ