वीरभद्र सिंह के दिहांत के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी श्रद्धांजलि

नेशनल डेस्क: वयोवृद्ध कांग्रेस नेता और छह बार के हिमाचल प्रदेश से मुख्यमंत्री रह चुके वीरभद्र सिंह का कोविड बीमारी से तीन महीने की लंबी लड़ाई के बाद आज सुबह 3.40 मिंट पर आईजीएमसी में निधन हो गया। उन्होंने 87 वर्ष की उम्र में दुनिया को कह दिया अलविदा। राज्य सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री के सम्मान में तीन दिन के राजकीय शोक की भी घोषणा की है।

दरअसल, देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया, ‘वीरभद्र सिंह के निधन की खबर सुन कर दुखी हूं। छह दशक के उनके राजनीतिक करियर में मुख्यमंत्री और सांसद के तौर पर उनकी भूमिकाएं हिमाचल प्रदेश के लोगों की सेवा के प्रति उनकी प्रतिबद्धता जाहिर करती हैं। परिवार एवं समर्थकों के प्रति संवेदनाएं।’

वही पीएम मोदी ने कहा, श्री वीरभद्र सिंह जी का लंबा राजनीतिक जीवन था, उनके पास समृद्ध प्रशासनिक और विधायी अनुभव था। उन्होंने हिमाचल प्रदेश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और राज्य के लोगों की सेवा की। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। शांति।

आपको बता दें कि उनके राजनीति सफर पर नजर डाले तो छह बार के मुख्यमंत्री वीरभद्र ने नौ विधानसभा और पांच लोकसभा चुनाव जीते थे, एक ऐसी उपलब्धि जिसके बारे में कुछ राजनेता दावा कर सकते हैं। वह 1977, 1979, 1980 और 2012 में राज्य कांग्रेस अध्यक्ष भी रहे। उन्होंने 1962 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद राजनीति में प्रवेश किया। वे केंद्रीय इस्पात मंत्री और इंदिरा गांधी में उप मंत्री भी रहे।

MUST READ