धोनी की कप्तानी पर पूर्व खिलाड़ी बोला – उनके होते हुए किसी को भी टीम से बाहर होने का डर नहीं था

भारतीय क्रिकेट इतिहास में जब सबसे सफल कप्तानों के नाम लिए जाते हैं तो भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम सबसे ऊपर आता है क्योंकि उनकी कप्तानी में भारत ने तीन बार ICC ट्रॉफी अपने नाम की है। धोनी की कप्तानी पर अब टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने बड़ा बयान दिया है जिसमें उन्होंने कहा है कि जब धोनी टीम इंडिया के कप्तान थे तो किसी भी खिलाड़ी को टीम से बाहर होने का डर नहीं लगता था क्योंकि उनका टीम चुनने का तरीका सबसे अलग था और वह खुद जानते थे कि किस खिलाड़ी को कब टीम में मौका देना है और कब वह खिलाड़ी टीम को फायदा दे सकता है।

आकाश चोपड़ा ने धोनी की कप्तानी की जमकर तारीफ की और कहा – धोनी जब भारत के कप्तान बने थे तो उन्हें टीम को बेहतर बनाने के लिए समय जरूर लगा था लेकिन उसके बाद उन्होंने शानदार खिलाड़ियों को टीम में आने का मौका दिया और हमेशा खिलाड़ियों को सपोर्ट भी किया जिसका टीम को बड़े टूर्नामेंट जीतने में फायदा भी मिला था। धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने घर और विदेशों में जाकर मैच जीतने शुरू किए और इसीलिए आज उन्हें भारत का सबसे सफल कप्तान भी कहा जाता है। जब आप एक ही टीम के साथ लगातार क्रिकेट खेलते हैं तो फिर बड़े टूर्नामेंट में जाकर जीत हासिल करना भी ज्यादा मुश्किल नहीं होता।

आपको बता दें कि धोनी एकमात्र ऐसे कप्तान हैं जिनकी कप्तानी में टीम ने तीन ICC ट्रॉफी अपने नाम की हो। सबसे पहले धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत को 2007 टी-20 वर्ल्ड कप में जीत दिलाई थी और उसके बाद 2011 वर्ल्ड कप में धोनी की कप्तानी में टीम ने शानदार प्रदर्शन दिखाया और उन्होंने अपने छक्के से भारत को 28 साल बाद चैंपियन बनाया। यही नहीं फिर 2013 चैंपियंस तिरोपि जो इंग्लैंड में खेली गई थी उसमें भी टीम ने धोनी की कप्तानी में मेजबान टीम को हराकर जीत हासिल की थी। मौजूदा समय में धोनी की गिनती क्रिकेट के सबसे महान कप्तानों में की जाती है।

MUST READ