ऑस्ट्रेलिआई कप्तान बोला – मुझे कोहली से नहीं बल्कि भारत के इस खिलाड़ी से लगता है डर

कल एडिलेड के क्रिकेट मैदान पर ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला खेला जाना है, ऐसे में दोनों टीमों अपनी खास रणनीति के साथ मैदान पर उतरेंगी। दोनों टीमों के कप्तान अच्छे तरीके से जानते है की कौन-कौन से खिलाड़ी इस सीरीज में खतरनाक साबित हो सकते हैं वही अब ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान टिम पेन ने भारतीय टीम के खिलाड़ियों को लेकर बड़ा बयान दिया है।

इस मैदान पर भारतीय कप्तान विराट कोहली बल्ला खूब चला है और उनके बल्ले से एडिलेड में अबतक 3 शतक निकल चुके है,ऐसे में ऑस्ट्रेलिया की टीम कोहली के खिलाफ अलग रणनीति के साथ आएगी और उन्हें जल्द से जल्द आउट करने की कोशिश करेंगे लेकिन कप्तान पेन ने कहा – हम कोहली को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं है क्योंकि वह सिर्फ टेस्ट सीरीज का पहला मैच खेलकर वापस भारत लौट जाएंगे। पेन ने कहा – कोहली के जाने के बाद उनकी टीम के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी अजिंक्य रहाणे के हाथ में टीम की कमान होगी और वो टीम को साथ लेकर चलते है जिससे हमारे लिए चुनौती खड़ी हो सकती है।

रहाणे की तारीफ करते हुए पेन ने कहा – मिडिल आर्डर में रहाणे जैसा खिलाड़ी टीम के लिए बड़ी जिम्मेदारी निभा सकता है और उनका विकेट भी हमारे लिए काफी अहम है। पेन ने आगे कहा – हमारे पास भारतीय टीम के बल्लेबाजों को परेशान करने के लिए हर तरीके का गेंदबाज है, हमारे पास हर किस्म की गेंदबाजी है, तेज गेंदबाज भी है, नाथन ल्योन के रूप में बेहतरीन स्पिनर भी है, कैमेरॉन ग्रीन भी है जो अच्छी गेंदबाजी कर सकता है, हमारे पास काफी सरे विकल्प मौजूद है जो टीम इंडिया के लिए खतरा बन सकते हैं।

वही पेन ने टीम इंडिया की दीवार कहे जाने वाले चेतेश्वर पुजारा की तारीफ करते हुए भी कहा की वो टीम का सबसे शानदार बललेबाज है और उन्होंने पिछली बार भी हमें काफी परेशान किया था इसलिए इस बार उनके खिलाफ भी हम खास रणनीति के साथ मैदान पर उतरेंगे और कोशिश करेंगे की जल्द उनको ऑउट करके मिडिल आर्डर पर दवाब बनाया जाए। पेन ने कहा – हमारी टीम अभी पिछली हार को भूली नहीं है और इस बार हम टीम इंडिया को बिलकुल भी हलके में नहीं लेना चाहेंगे, हमारी कोशिश यही होगी की पहला टेस्ट जीतकर भारतीय टीम के ऊपर बढ़त हांसिल की जाए।

पेन ने अपनी टीम के गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा – मिशेल स्टार्क के टीम में वापस आने से टीम को काफी मजबूती मिली है क्योंकि गुलाबी गेंद से उनका रिकॉर्ड बेहद अच्छा है. उन्होंने सात डे-नाइट टेस्ट मैचों में 42 विकेट लिए हैं और इस बार उम्मीद है की वे टीम इंडिया के बल्लेबाजों को भारी नहीं पड़ने देंगे।

MUST READ