इंग्लैंड को घर में हराना कोहली के लिए नहीं होगा आसान, टीम को इन 3 कमजोरियों पर करना पड़ेगा काम

विराट कोहली की अगुवाई में टीम इंडिया इंग्लैंड दौरे पर है। भारत इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगा जिसकी शुरुआत 4 अगस्त से हो जाएगी। टेस्ट सीरीज से पहले ही भारत को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल इंग्लैंड में ही हारना पड़ा जिसे कीवी टीम ने 5 विकेट से जीत लिया था। ऐसे में अब विराट कोहली के लिए इंग्लैंड को उनके घर में हराना बड़ी चुनौती होगी। इस समय टीम इंडिया दवाब में भी है क्योंकि खिलाड़ियों का खराब प्रदर्शन भी सवालों के घेरे में आ चूका है। ऐसे हम आपको भारत की 3 ऐसी कमजोरियों के बारे में बताएंगे जिसपर टीम इंडिया ने काम नहीं किया तो टेस्ट सीरीज में जीतना मुश्किल हो सकता है।

टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल भारत का ओपनिंग आर्डर भी कुछ खास नहीं कर पाया था जिसकी जिम्मेदारी रोहित और शुबमन को मिली थी। लेकिन भारत को एक बड़ा झटका पहले ही लग चूका है क्योंकि चोटिल होने के कारण शुबमन गिल पहले टेस्ट में नहीं खेलेंगे। ऐसे में विराट कोहली मयंक और राहुल में से किसी एक को रोहित के साथ ओपनिंग पर भेज सकते हैं लेकिन ओपनिंग करने वाले बल्लेबाजों को इंग्लैंड के खिलाफ बड़ी पारी खेलने की जरूरत होगी क्योंकि अगर इंग्लैंड के सामने भी ओपनर बल्लेबाज फ्लॉप रहे तो टीम के लिए परेशानी हो सकती है। विराट कोहली को अब अपने ओपनर बल्लेबाजों पर काफी उम्मीदें होगी।

वहीं अगर बात भारत के मिडिल आर्डर की करें तो टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में कोई भी खिलाड़ी कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाया। भारत का मिडिल आर्डर विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के कंधो पर टिका हुआ है। टीम के कप्तान किंग कोहली भी पिछले 2 सालों से टेस्ट में कोई बड़ी पारी नहीं खेल पाए है। आपको जानकर हैरान होगी कि कोहली पिछले दो सालों से टेस्ट में एक भी शतक नहीं लगा पाए हैं। ऐसे में कोहली को भी इंग्लैंड के खिलाफ बल्ले का कमाल दिखाना होगा। बात अगर चेतेश्वर पुजारा की करें तो उनका हाल भी कोहली जैसा ही है और उनके बल्ले से भी खास रन देखने को नहीं मिल रहे हैं। टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे का प्रदर्शन टेस्ट चैंपियनशिप में सही रहा है लेकिन इंग्लैंड के सामने उनको कुछ बड़े रन जरूर बनाने पड़ेंगे। ऐसे में अगर टीम का मिडिल आर्डर अपना काम नहीं करेगा तो इंग्लैंड उसका फायदा जरूर ले लेगी।

टीम इंडिया की तेज गेंदबाजी को भी देखें तो मोहम्मद शमी को छोड़कर टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में बाकी गेंदबाजों का बोलबाला देखने को नहीं मिला था। हालांकि इशांत शर्मा भारत की तरफ से इंग्लैंड में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज हैं लेकिन उन्हें भी अब कुछ खास करने की जरूरत है। यॉर्कर किंग्स जसप्रीत बुमराह भी फाइनल मैच में लय में नहीं दिखे जिसके चलते इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कुछ बदलाव भी देखने को मिल सकते हैं। इंग्लैंड की तेज गेंदबाजी भारत से ज्यादा अनुभवी है इसलिए भारत के गेंदबाजों को भी कप्तान का साथ देना होगा। अब देखना होगा टेस्ट सीरीज में कोहली क्या रणनीति अपनाते हैं क्योंकि 2007 के बाद भारत इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाया है।

MUST READ