अपने आखिरी मैच में वाटलिंग ने बनाया शानदार रिकॉर्ड, जाते – जाते धोनी को भी छोड़ गए पीछे

भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला कल ख़त्म हो चूका है जिसमें कीवी टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 8 विकेट से जीत हासिल की। भारत ने दूसरी पारी में कीवी टीम को 139 रनों का आसान लक्ष्य दिया था जिसका पीछा करते हुए विलियम्सन और टेलर ने टीम को जीत दिलाकर चैंपियन बना दिया। यह मुकाबला खास करके कीवी टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज बी जे वाटलिंग के लिए यादगार रहेगा क्योंकि फाइनल खेलने के बाद उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा बोल दिया है और इसका ऐलान उन्होंने टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल से पहले ही कर दिया था। अपने अंतिम मुकाबले में वाटलिंग ने जाते – जाते महेंद्र सिंह धोनी का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है अब वाटलिंग का नाम खास क्लब में शामिल हो गया है।

आपको बता दें कि वाटलिंग ने टेस्ट क्रिकेट में विकेट के पीछे सबसे ज्यादा कैच लेने वाले खिलाड़ियों में अपना नाम दर्ज कराया है। वाटलिंग ने टेस्ट मैचों में 127 पारियों में 257 कैच लपके हैं और उन्होंने इस लिस्ट में धोनी को पछाड़ दिया है जिन्होंने अपने टेस्ट करियर में 166 पारियों में विकेट के पीछे 256 कैच लपके थे। इस लिस्ट में वाटलिंग अब सातवें नंबर पर पहुंच गए और इसी के साथ उनका क्रिकेट करियर भी खत्म हो गया। बता दें कि टेस्ट क्रिकेट में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व विकेट कीपर मार्क बाउचर ने सबसे ज्यादा कैच लेने का रिकॉर्ड बनाया है। बाउचर ने टेस्ट में 281 पारियों में रिकॉर्ड 532 कैच लेने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। ऐसे में वाटलिंग के लिए यह फाइनल मुकाबला कभी ना भूलने जैसा होगा क्योंकि कल कीवी को हराकर टेस्ट चैंपियनशिप अपने नाम की।

वहीं कीवी टीम के कप्तान विलियम्सन ने भी वाटलिंग टेस्ट करियर के लिए बधाई दी और कहा – वाटलिंग हमारे लिए शानदार खिलाड़ी हैं और उन्होंने विकेट के पीछे हमेशा ही बेहतर खेल दिखाया है। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी से टीम को कई बार मैच जीताएं है और टीम उनके योगदान को कभी नहीं भूलेगी। आपको बता दें की अपने टेस्ट करियर में वाटलिंग ने 73 टेस्ट मुकाबले खेलते हुए 3773 रन अपने नाम किए जिसमें उनका औसत 40 के करीब रहा। उन्होंने अपने करियर में 8 शतक भी लगाए और वाटलिंग का टेस्ट में बेस्ट स्कोर 205 रहा जो उन्होंने साल 2019 में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था।

MUST READ